Top 10 similar words or synonyms for उपल

लकड    0.362388

बध    0.352358

सभक    0.350104

ईध    0.333896

शष    0.328517

णकल    0.324213

बरतन    0.323399

लदस    0.319792

यजम    0.319748

लखपत    0.318945

Top 30 analogous words or synonyms for उपल

Article Example
कांच उपल—क्रायोलाइट—100-120 भाग
मुख्य रत्न एवं मणियां नाम- हि. उपल, रत्नोपल, अं. ओपल।
लक्ष्मी पूजा (९/११८/३) में माता को न ना कहा गया है (उपल प्रक्षिणा न ना) सीरिया और एशिया
शिक्षा दर्शन इसका यही अर्थ है कि शिक्षा केवल सैद्धान्तिक नहीं थी। व्यवहार और वास्तविकता का भी शिक्षा से उतना ही गहन संबंध था जितना सैद्धांतिक अध्ययन-अध्यापन का। किसी भी कार्य को छोटा नहीं समझा जाता था। ऋग्वेद में ऐसे उदाहरण हैं कि ऋषि स्वयं कवि थे, उनके पिता चिकित्सक थे, उनकी माता उपल प्रक्षिणी अर्थात् आटा पीसने वाली थी और परिवार के तीनों ही सदस्य शिक्षा दान में कार्यरत थे।
बीमा 3. प्राकृतिक जोखिमों से सुरक्षा - बीमा सुविधा से ही अर्थव्यवस्था के सभी घटकों को विभिन्न प्रकार की प्राकृतिक जोखिमों से सुरक्षा उपल ब्ध हो रही है। बीमा कम्पनियां अग्नि, अतिवृष्टि, समुद्री मार्ग की जोखिमों , तटीय क्षेत्रों की जोखिमों आदि का बीमा करती है और उन लोगों को राष्ट्रीय सुरक्षा प्रदान करती है और राष्ट्र के आर्थिक विकास की गति को आगे बढ़ाने में योगदान दे ती है।
दार्जिलिंग दार्जिलिंग की इतिहास नेपाल, भुटान, सिक्किम और बंगाल से जुडा हुआ है। दार्जिलिंग शब्द तिब्बती भाषा के दो शब्द "दोर्जे", जिसका अर्थ ओला या उपल होता है , तथा "लिंग" जिसका अर्थ स्थान होता है, से मिलकर बना है। इसका शाब्दिक अर्थ हुआ "उपलवृष्टि वाली जगह" जो इसके अपेक्षाकृत ठंडे वातावरण का चित्र प्रस्तुत करता है। १९वी शताब्दी के पूर्व तक इस जगह पर नेपाली और सिक्किमी राज्य राज करते थे, with settlement consisting of a few villages of Lepcha woodspeople. १८२८ में एक बेलायती इस्ट इन्डिया कम्पनी की अफ़सरौं की टुकडी ने सिक्किम जाते समय दार्जिलिंग पहुंच गए और इस जगह मैं वेलायती सेना के लिए एक स्यानिटरियम बनाने का संकल्प किया। The Company negotiated a lease of the area from the Chogyal of Sikkim in 1835. आर्थर क्याम्पबेल, कम्पनी का एक शल्य चिकित्सक और लेफ़्टिनेन्ट नेपियर (बाद मैं रोबर्ट नेपियर, मग्दाला के प्रथम बेरोन) को यहां पर हिल स्टेसन बनाने की जिम्मेवारी सौंपा गया।
कायोत्सर्ग कायोत्सर्ग का शब्दार्थ 'शरीर के ममत्व का त्याग' है। जैन ग्रन्थ, मूलाचार (अध्याय ७, गा. १५३) के अनुसार इसका लक्षण (परिभाषा) है— पैरों में चार अंगुल का अंतराल देकर खड़े हों, दोनों भुजाएँ नीचे को लटकती रहें और समस्त अंगों को निश्चल करके यथानियम श्वास लेने (प्राणायाम) पर कायोत्सर्ग होता है। इस प्रकार कायोत्सर्ग ध्यान की शारीरिक अवस्था (समाधि) का पर्यायवाची है, जैसे 'जिन सुथिर मुद्रा देख मृगगन उपल खाज खुजावते' से स्पष्ट है। संकल्प-विकल्प-रहित आंतरिक थिरता को ध्यान (आत्मकायोत्सर्ग) कहा है। अपराधरूपी व्रणों के भैषजभूत कायोत्सर्ग के दैनिक, मासिक आदि अनेक भेद हैं। उत्कृष्ट कायोत्सर्ग एक वर्ष तक तथा जघन्य अंतर्मुहूर्त (एक क्षण से लेकर दो घड़ी के पहिले तक) होता है।